मंगलवार, 15 फ़रवरी 2011

ब्लागिंग में गुटबाजी उचित नहीं:ब्लागर


वैलेंटाइन-डे के मौके पर   लक्ष्मीनगर में कई ब्लागर्स एकत्र हुए. इस दिन का सदुपयोग करते हुए सभी ब्लागर्स ने एक दूसरे को प्रेम-दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए इस दिन की सार्थकता पर चर्चा की. चर्चा के दौरान हिंदी ब्लाग जगत में फ़ैल रही गुटबाजी जैसी समस्याओं पर चिंता ज़ाहिर की गई. सभी ने एकमत से यह राय जाहिर की, कि ब्लागर समाज की समस्याओं को सामने लाते हैं, इसलिए उन्हें किसी गुट में शामिल न होकर हिंदी के प्रचार-प्रसार की मूल भावना के लिए काम करना चाहिए. आज वेलेंटाइन डे पर कई जगह प्रेम का विरोध करने वालों द्वारा अपनाए जा रहे हिंसक और असामाजिक तौर-तरीकों को ब्लागरों ने गलत ठहराया. ब्लागर्स का कहना है कि प्रेम में बढती उच्चश्रृंखलता का विरोध भी प्रेम से ही करना चाहिए. सभी ब्लागर्स ने निश्चय किया कि वे संत वेलेंटाइन के प्रेम के सन्देश को हिंदी ब्लागिंग के ज़रिये देशभर में फैलाएंगे. ताकि सभी जन आपस के भेदभाव भुलाकर विश्वबंधुत्व की ओर अग्रसर हों. बैठक में यह भी तय किया गया कि इन मुद्दों पर विस्तार से विचार-विमर्श के लिए ब्लागर साथियों की एक बड़ी बैठक जल्द बुलाई जायेगी. इस मौके पर एड़ी-चोटी के उपदेश सक्सेना, जुगाली के संजीव शर्मा, सुमित के तड़के वाले सुमित प्रताप सिंह, सुनील वाणी के सुनील कुमार, मगध एक्सप्रेस के अजीत झा, हरियाणा मेल के सतीश कुमार सहित कई पत्रकार और ब्लागिंग जगत में रूचि रखने वाले लोग मौज़ूद थे.



शनिवार, 12 फ़रवरी 2011

पपी लव या लव,सेक्स और धोखा.....


अब इसे प्रेम का बाज़ार कहें या बाज़ार का प्रेम या फिर ‘लव,सेक्स और धोखा’ क्योंकि आज के दौर के प्रेम ने तो प्यार को दिनों में बाँट दिया है.तभी तो वेलेन्टाइन डे के दौरान फ़रवरी माह की 7 तारीख को रोज डे, 8 को प्रपोस डे, 9 को चाकलेट डे,10 को टेडी डे,11 को प्रोमिस डे,12 को हग डे,13 को किस डे और फिर 14 को वेलेन्टाइन डे....यानि पूरे पखवाड़े भर का इंतजाम.वैसे अब कही-कहीं तो इसके बाद ‘ब्रेक-अप डे’ भी सेलिब्रेट होने लगा है क्योंकि आज की पीढ़ी अपने साथी को इससे ज़्यादा बर्दाश्त ही नहीं कर सकती? रही बाकी “डे” (दिनों) की बात तो उनके लिए बाजार ने भरपूर इंतजाम कर दिए हैं बस आपकी जेब में पैसा होना चाहिए फिर माशूक या माशूका तो अपने आप चली आएगी.अब प्रेम दिल से नहीं दौलत से होता है अर्थात जितनी भारी जेब होगी उतना ही ‘स्ट्रोंग’ प्यार होगा और वह भी एक से नहीं दो-चार से एक साथ. खास बात यह है कि सभी साथ जीने-मरने की कसमें खायेंगे.यह बात अलग है कि प्यार(दौलत) खत्म होते ही बिना किसी गिले-शिकवे के अलग भी हो जायेंगे.यही तो नई पीढ़ी का प्यार है.
मैंने कुछ दिन पहले एक कविता पढ़ी थी उसकी चन्द पंकितयां इसप्रकार हैं:
“स्कूल-कालेज से शुरू होता है
पार्क-लाईब्रेरी में पलता है
मैकडी-पिज्ज़ा हट में बढ़ता है
वेलेन्टाइन डे तक चलता है
ब्रेक-अप पर खत्म होता है
नई पीढ़ी पर इसी का खुमार है
दोस्तों यह नई पीढ़ी का प्यार है”
इस प्यार को आजकल की भाषा में “पपी लव” कहा जाता है.हालाँकि आम बोलचाल की भाषा में ‘पपी’ का मतलब ‘कुत्ते का बच्चा’ होता है तो फिर ‘पपी लव’ का मतलब यही हुआ न कि ‘कुत्ते के बच्चे के बच्चे रहने तक का प्यार’ और जैसे ही बच्चे बड़े हो जाये उन्हें भूलकर फिर दूसरे बच्चे तलाश करो और फिर उनसे प्यार करो मतलब किसी के साथ भी ज़्यादा वक्त बिताने की ज़रूरत नहीं है.आजकल हो भी तो यही रहा है! यदि कामदेव आज होते तो शायद घबराकर आत्महत्या कर लेते क्योंकि अब तो गली-गली में कामदेव हैं और वे भी किस्म-किस्म के जैसे लिव-इन वाले कामदेव,सिक्स पैक वाले कामदेव,मर्सीडीज़-बीएमडब्ल्यू वाले कामदेव,हायबुसा वाले कामदेव,रोमिओ टाइप कामदेव और सबसे अंत में मुफ़्तखोर कामदेव.ये वही कामदेव हैं जो प्यार में अश्लील एसएमएस भेजते हैं,अपनी माशूका के इश्क की सबके बीच बयानबाज़ी से नहीं चूकते और प्यार करते हुए न केवल एमएमएस बनाते हैं बल्कि खुद ही उसे बांटते/बेचते तक हैं.एक दूसरे को समझने के लिए लिव-इन को ज़िन्दगी का फलसफा बनाते हैं पर शादी का ज़िक्र आते ही सम्बन्ध तोड़ने में ज़रा सी देर भी नहीं लगाते.
इन्हीं कामदेवों में कुछ ऐसे भी हैं जो अपने घरों-गांव-शहरों से आते तो कलेक्टर/एसपी बनने के लिए हैं लेकिन महानगरों की संस्कृति की हवा में बहने में भी देर नहीं करते.यह हवा उन्हें एकतरफा प्यार करने के लिए मज़बूर कर देती है और फिर अपनी नाकामी को छिपाने के लिए प्रेमिका की जान लेने में भी पीछे नहीं रहते.परिणामस्वरूप बेचारे माँ-बाप जेल में बंद या फरार बच्चे को बचाने/तलाशने के लिए उस पूँजी को लुटाने पर मज़बूर हो जाते हैं जो उन्होंने उसी बच्चे को आईएएस-आईपीएस बनाने के लिए जोड़कर रखी थी.क्या यही प्यार है?एक बात मैं यहाँ स्पष्ट करना चाहता हूँ कि न तो मैं प्यार के खिलाफ़ हूँ और न ही नई पीढ़ी के प्रेमियों की आलोचना करना मेरा मकसद है.बस में प्यार के फर्जीवाड़े को उजागर करना चाहता हूँ क्योंकि प्यार जात-पात,धर्म,धन-दौलत,रूप-रंग और बाज़ार से परे बिल्कुल आध्यात्मिक एवं भावनात्मक अनुभूति है.प्यार हमारी वासना,नफ़रत,ईर्ष्या,धोखा जैसी बुराइयों को दूरकर ऐसी दुनिया में ले जाता है जहाँ इन बुराइयों के लिए कोई जगह ही नहीं है इसलिए तमाम आगा-पीछा भूलकर सभी को भरपूर प्यार बांटिये और दिल से प्यार करिये क्योंकि प्यार है तभी तक यह दुनिया है वरना इंसान और जानवर के बीच का फर्क ही खत्म हो जायेगा.जानी-मानी शायरा लता‘हया’ ने बिल्कुल ठीक फ़रमाया है:
"हैं जिनके पास अपने तो वो अपनों से झगड़ते हैं
नहीं जिनका कोई अपना वो अपनों को तरसते हैं
मगर ऐसे भी हैं कुछ पाक और बेग़रज़ से रिश्ते
जिन्हें तुमसे समझते हैं जिन्हें हमसे समझते हैं "





गुरुवार, 3 फ़रवरी 2011

काश हम सब भी गब्बर ही होते...

हम सब शोले के खलनायक गब्बर सिंह को एक दुर्दान्त,क्रूर,वहशी दरिंदे के रूप में जानते हैं बिलकुल वैसे ही जैसे रामचरित्र मानस में रावण,जबकि असलियत में रावण कुछ ओर ही था.ऐसे ही हमारे एक विद्वान साथी ने गब्बर सिंह पर नए अंदाज़ में प्रकाश डाला है.आइये आप सब भी गब्बर पुराण में शराबोर हो जाइये...
1. सादा जीवन, उच्च विचार: उसके जीने का ढंग बड़ा सरल था. पुराने और मैले
कपड़े, बढ़ी हुई दाढ़ी, महीनों से जंग खाते दांत और पहाड़ों पर खानाबदोश
जीवन. जैसे मध्यकालीन भारत का फकीर हो. जीवन में अपने लक्ष्य की ओर इतना
समर्पित कि ऐशो-आराम और विलासिता के लिए एक पल की भी फुर्सत नहीं और
विचारों में उत्कृष्टता के क्या कहने! “जो डर गया, सो मर गया” जैसे
संवादों से उसने जीवन की क्षणभंगुरता पर प्रकाश डाला था.
२. दयालु प्रवृत्ति: ठाकुर ने उसे अपने हाथों से पकड़ा था. इसलिए उसने
ठाकुर के सिर्फ हाथों को सज़ा दी. अगर वो चाहता तो गर्दन भी काट सकता था.
पर उसके ममतापूर्ण और करुणामय ह्रदय ने उसे ऐसा करने से रोक दिया.
3. नृत्य-संगीत का शौकीन: 'महबूबा-महबूबा' गीत के समय उसके कलाकार
ह्रदय का परिचय मिलता है. अन्य डाकुओं की तरह उसका ह्रदय शुष्क नहीं था.
वह जीवन में नृत्य-संगीत एवं कला के महत्त्व को समझता था. बसन्ती को
पकड़ने के बाद उसके मन का नृत्यप्रेमी फिर से जाग उठा था. उसने बसन्ती के
अन्दर छुपी नर्तकी को एक पल में पहचान लिया था. गौरतलब यह कि कला के
प्रति अपने प्रेम को अभिव्यक्त करने का वह कोई अवसर नहीं छोड़ता था.
4. अनुशासनप्रिय नायक: जब कालिया और उसके दोस्त अपने प्रोजेक्ट से नाकाम
होकर लौटे तो उसने कतई ढिलाई नहीं बरती. अनुशासन के प्रति अपने अगाध
समर्पण को दर्शाते हुए उसने उन्हें तुरंत सज़ा दी.
5. हास्य-रस का प्रेमी: उसमें गज़ब का सेन्स ऑफ ह्यूमर था. कालिया और
उसके दो दोस्तों को मारने से पहले उसने उन तीनों को खूब हंसाया था. ताकि
वो हंसते-हंसते दुनिया को अलविदा कह सकें. वह आधुनिक युग का 'लाफिंग
बुद्धा' था.
6. नारी के प्रति सम्मान: बसन्ती जैसी सुन्दर नारी का अपहरण करने के बाद
उसने उससे एक नृत्य का निवेदन किया. आज-कल का खलनायक होता तो शायद कुछ और करता
7. भिक्षुक जीवन: उसने हिन्दू धर्म और महात्मा बुद्ध द्वारा दिखाए गए
भिक्षुक जीवन के रास्ते को अपनाया था. रामपुर और अन्य गाँवों से उसे जो
भी सूखा-कच्चा अनाज मिलता था, वो उसी से अपनी गुजर-बसर करता था. सोना,
चांदी, बिरयानी,चिकन या मलाई टिक्का की उसने कभी इच्छा ज़ाहिर नहीं की.
(यह सामग्री मुझे मेरे करीबी मित्र गीत दीक्षित ने भेजी थी.इसके असली रचनाकार कौन हैं मुझे नहीं पता पर इसमें गब्बर का चरित्र चित्रण इतने अनूठे अंदाज़ में किया गया है की मैं इसे आप सबके साथ साझा करने से आपने आपको नहीं रोक पाया.गब्बर को नए अंदाज़ रूप में सामने लाने के लिए लेखक को साधुवाद)

Ratings and Recommendations by outbrain