शुक्रवार, 28 जनवरी 2011

आप ब्लागर हैं..तो बन सकते हैं मंत्री-प्रधानमंत्री


सलीम अमामाऊ
 यदि आप शौकिया तौर पर ब्लागिंग करते हैं तो अब गंभीर हो जाइये और चलताऊ विषयों की बजाय ज्वलंत मुद्दों पर लिखना शुरू कर दीजिए क्योंकि ब्लागिंग से अब आप न केवल भरपूर पैसा और नाम कमा सकते हैं बल्कि मंत्री तथा प्रधानमंत्री जैसे पदों पर भी पहुँच सकते हैं. मुझे पता है आपको यह ‘मंत्री’ बनने की बात हजम नहीं हो रही होगी और मेरी कपोल-कल्पना लग रही होगी ,पर यह वास्तविकता है और चौबीस कैरेट सोने सी खरी है. हमारे एक ब्लागर भाई तो मंत्री पद तक पहुँच भी गए हैं.
हालाँकि हो सकता है आप में से कई लोग ऐसे उदाहरण देने लगे जो उन लोगों के हों जो मंत्री पद के साथ-साथ ब्लागिंग भी कर रहे हैं. मैं खुद भी लालकृष्ण आडवाणी,लालू प्रसाद जैसे तमाम नाम बता सकता हूँ जिन्होंने सरकारी उत्तरदायित्व सँभालते हुए भी ब्लागिंग की लेकिन ये लोग नेता/मंत्री/प्रभावशाली पहले थे और बाद में ब्लागर बने.मैं जिस व्यक्ति का उल्लेख कर रहा हूँ वह पहले आम ब्लागर था फिर मंत्री बना और भविष्य में शायद प्रधानमंत्री भी बन सकता है और अभी भी नियमित रूप से ब्लागिंग कर रहा है. इस शख्स का नाम है-सलीम अमामाऊ...सलीम ट्यूनीशिया के नागरिक हैं और हाल ही में इन्हें इस देश का युवा और खेल मंत्री बनाया गया है.ऐसा नहीं है कि सलीम को यह पद सरकार की चापलूसी से मिल गया है बल्कि उन्होंने खुलेआम सरकार से लोहा लिया.सलीम के आग उगलते लेखों के कारण ट्यूनीशिया में सरकार के खिलाफ विद्रोह का माहौल बन गया. इसके लिए सलीम को जेल जाना पड़ा,पुलिसिया यातनाएं सहनी पड़ी और वे तमाम कष्ट उठाने पड़े जो किसी भी देश में सरकार की गलत नीतियों का विरोध करने वालों को उठाने पड़ते हैं. पर धीरे-धीरे सलीम के साथ अन्य ब्लागर भी जुड़ते गए.फिर ट्विटर और फेसबुक जैसी लोकप्रिय सोशल नेटवर्किंग वेबसाइटों ने भी उनका भरपूर साथ दिया.स्थिति यह बन गई कि यहाँ की सरकार के मुखिया को देश छोड़कर भागना पड़ा और ट्यूनीशिया में अंतरिम सरकार का गठन हुआ जिसमें सलीम अमामाऊ को भी शामिल कर मंत्री बनाया गया.अब यह अंतरिम सरकार चुनाव कराकर नई सरकार का गठन करेगी.सलीम की ट्यूनीशिया में लोकप्रियता को देखकर लगता है कि वे भविष्य में यदि यहाँ के प्रधानमंत्री बन जाये तो कोई आश्चर्य की बात नहीं होगी. खास बात यह है कि सलीम अमामाऊ ने अभी भी ब्लागिंग बंद नहीं की है.उनका कहना है कि वे सरकार में रहकर भी ब्लागिंग के जरिये सरकार की कमज़ोरियों को आम लोगों के बीच ले जाते रहेंगे.
सलीम अमामाऊ को ब्लागरों के लिए आदर्श माना जा सकता है क्योंकि उनसे प्रेरणा लेकर ट्यूनीशिया के पड़ोसी मुल्क मिश्र सहित कई अन्य देशों के ब्लागर भी तानाशाह सरकारों के खिलाफ आवाज़ उठाने लगे हैं और वहाँ भी सत्ता परिवर्तन की आहट सुनाई दे रही है....तो फिर देर किस बात की है....आप भी उठाइए कलम/चलाइए कीबोर्ड पर अंगुलियां और बता दीजिए देश को अपनी बात, इससे आप भले ही मंत्री-प्रधानमंत्री न बन पाए कम से कम ब्लागर जगत को तो एक और संजीदा ब्लागर मिल जायेगा.

11 टिप्‍पणियां:

  1. जिस दिन जेल जाने की स्थिती को झेलने की ताकत आ जायेगी, उस दिन जरूर ऐसे ज्वलंत मुद्दों पर लिखेंगे, तब शायद..... :D

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ! सलीम भाई ! संजीव जी के जरिए आप तक पहुंचा रहे हैं हम अपनी बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  3. लेकिन सलीम भाई !आपके मुंह में धूम्रपान का बड़ा -सा यंत्र (चुरूट ) देख कर दुःख भी हो रहा है. आप खेल और युवा विभाग के मंत्री बनाए गए हैं . इस धुंआ उगलने वाली मशीन को अपने होठों से लगा कर आप खिलाड़ियों और युवाओं को क्या नसीहत दे रहे हैं ?

    उत्तर देंहटाएं
  4. अजी हम तो आज भी अपने घर मे प्रधानमंत्री ही हे :) बाकी कठपुतली वाले प्रधानमंत्री हमे नही बनाना जी, इस से तो ब्लागर ही भले

    उत्तर देंहटाएं
  5. सार्थक व सराहनीय प्रस्तुती......वास्तव में ब्लॉग एक बेहद सार्थक माध्यम है बुराई और शर्मनाक स्तर के भ्रष्टाचार के खिलाप आवाज उठाने का ....लेकिन इसके लिए ब्लोगर का बेहद इमानदार व निडर होना बहुर जरूरी है......

    उत्तर देंहटाएं
  6. भाई मैं तो आज से ही कमर कस रहा हूँ, नियमित ब्लोगिंग की.

    उत्तर देंहटाएं
  7. नमस्कार !
    वाह ! सलीम भाई ! संजीव जी के जरिए आप तक पहुंचा रहे हैं हम अपनी बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  8. कमर ही नहीं मैं तो पूरा शरीर ही कस रहा हूं... दिन फिरते देर नहीं लगती....

    उत्तर देंहटाएं

Ratings and Recommendations by outbrain