मंगलवार, 18 मई 2010

वाकई २०० साल जीने लगा आदमी तो क्या होगा?

बाबा रामदेव का कहना है की यदि लोग नियमित योग करें और खान-पण में मर्यादित व्यव्हार करें तो १५० से २०० तक जीने की कल्पना को साकार किया जा सकता है.रामदेव ने तो आजतक न्यूज़ चैनल के साथ बातचीत में ये दावा भी किया कि वे खुद कम से कम १५० साल तक जीकर दिखायेंगे . आम लोगो के लिए मौजूदा दौर में २०० साल तक जीने की कल्पना किसी स्वप्न जैसी है क्योंकि अभी तो इंसान को ये भरोसा भी नहीं है कि वो कल का सूरज भी देख पायेगा कि नहीं और यदि आप दिल्ली जैसे किसी महानगर में रहते हैं तो फिर आपकी आयु वहां के प्रदूषण,शोर और ब्लू लाइन बसों के चालकों की मर्ज़ी पर निर्भर करेगी.शयद बाबा रामदेव भी ये कारण जानते हैं तभी तो उन्होंने कार बनाने वाली कम्पनिओं की तर्ज़ पर "आदर्श स्थितिओं "वाली शर्त जोड़ दी है.अक्सर कम्पनिया भी तो अपने दावों पर यही तर्क देती हैं कि आदर्श स्थितिओं में ही दावा किया गया माइलेज मिलेगा.वैसे बाबा रामदेव ने अब तक जो भी दावे किये हैं वे बिलकुल सही निकले हैं और अब तो हमारे तथाकथित तर्कवादी और डॉक्टर भी उनके दावो को सही बताकर योग-कपालभाती-अनुलोम विलोम और भ्रामरी करने लगें हैं इसलिए यदि बाबा कह रहे हैं कि इंसान २०० साल तक जी सकता है तो इस बात में भी कुछ न कुछ दम ज़रूर होगा!
सोचिये यदि वास्तव में हम १५०-२०० साल तक जीने लगे तो क्या हाल हो जायेगा जैसे सर्कार को रिटायर्मेंट कि उम्र ६० से बढाकर १२० या १८० साल तक करनी पड़ेगी और फिर नौकरी और छोकरी(विवाह) पाने कि आयु भी बढकर दो गुना से ज्यादा हो जाएगी.फिर लोग कहते सुने जायेंगे कि बिटिया अब साठ कि हो गए है इसलिए जल्दी से कोई अच्छा सा ६५-७० साल का लड़का देखकर उसके हाथ पीले करने हैं. इसीतरह दादा-दादी तथा नाना-नानी नाती-पोते नहीं बल्कि पंती और उसके बाद की कई पीढी के विवाह और बच्चे देखने की बात करेंगे.सबसे ज्यादा मारामारी तो राजनीती में होगी क्योंकि कोई नेता रिटायर ही नहीं होगा.अरे जब आम आदमी ही १५० साल जीने लगेगा तो हमारे नेताओं की उम्र इससे ज्यादा ही होगी.फिर मनमोहन सिंह सालो-साल प्रधानमंत्री बने रहेंगे और सोनिया-गडकरी-लालू और मुलायम जैसे नेता सैकड़ों साल तक अध्यक्ष...कुर्सी की लड़ाई इसी तरह और कठिन होती जाएगी तो तैयार रहिये भविष्य की इस जद्दो-ज़हद के लिए .....

1 टिप्पणी:

  1. जनसँख्या इतनी बढ जाएगी की धरती पर रहने के लिए जगह नहीं बचेगी और फिर हमें दूसरे ग्रहों का सहारा लेना होगा . जरा सोचिये 150 साल के बाबा रामदेव चाँद पर जाकर कपालभाती सिखा रहे हैं और मंगल वालों ने भी उन्हें बुलाया है. जय बाबा रामदेव .....
    Dharmendra Pant

    उत्तर देंहटाएं

Ratings and Recommendations by outbrain