सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

अक्तूबर, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

असम का नया कानून बदल सकता है देश में बुजुर्गों की स्थिति !!

                 जाति-धर्म-सम्प्रदाय,बाबा,साध्वी और नेताओं के विवादित बोल से लेकर न जाने कैसे-कैसे फ़िजूल विषयों पर आँखें तरेरने वाला हमारा कथित ‘जन-सरोकारी मीडिया’ अमूमन ऐसे विषयों पर चुप्पी साध लेता है जो वास्तव में जन सामान्य के लिए उपयोगी होते हैं।  हाल ही  में मीडिया के एक बड़े तबके ने एक बार फिर एक ऐसे विषय की अनदेखी कर दी जिसे सरकारों और समाज के हर आम-ओ-खास को जानना चाहिए।  न तो किसी चैनल ने इसे ब्रेकिंग न्यूज़ के लायक समझा और न ही बड़ी बहस , हल्ला बोल या मुक़ाबला नुमा कार्यक्रमों के लिए जरुरी । किसी ने टिकर यानि टीवी स्क्रीन में नीचे की ओर चलने वाली ख़बरों में शामिल किया तो किसी ने 5 मिनट में 50 ख़बरों टाइप हड़बड़ी वाली न्यूज़ का हिस्सा बनाकर इतिश्री कर ली। टीवी स्क्रीन पर देश-समाज की बड़ी-बड़ी बातें करने वाले तमाम सेलिब्रिटी एंकर भी इस विषय से कन्नी काट गए। हाँ , प्रिंट मीडिया ने ज़रूर जिम्मेदारी निभाई और कम से कम दो कालम की ख़बरें कई राष्ट्रीय समाचार पत्रों में देखने को मिली। पूर्वोत्तर में आतंकवाद को छोड़कर किसी और विषय को इतनी जगह मिलना भी कम उपलब्धि नहीं है।           अब आप सोच