सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

मार्च, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

जब लोगों ने हाथों की रंग बिरंगी छापों से लिख दिया जय गंगे

प्रयागराज कुंभ: जैसा मैंने देखा (4) आमतौर पर घरों के दरवाजे पर हाथ की छाप या हल्दी लगे हाथों की छाप शुभ मानी जाती है लेकिन हाथों की यह छाप हमें गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में भी स्थान दिला सकती है… यह किसी ने सोचना तो दूर कल्पना भी नहीं की होगी। प्रयागराज में चल रहा कुंभ अपनी दिव्यता और भव्यता के साथ कई अनूठे रिकार्ड भी गढ़ रहा है। 9 किमी लंबी बस ट्रेन बनाकर रिकार्ड कायम करने के बाद अब कुंभ प्रशासन ने हाथों की छाप से विश्व रिकार्ड बनाया है। प्रयागराज मेला प्राधिकरण ने ‘पेंट माई सिटी’ अभियान के अन्तर्गत की गयी चित्रकारी को विश्व पटल पर प्रदर्शित करने के लिए प्रयाग के गंगा पण्डाल में एक हस्तलिपि चित्रकारी कार्यक्रम आयोजित किया।  यहाँ एक विशाल कैनवास (पेंटिंग वाल) लगाया गया। इस कैनवास पर सुबह 10 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक सुरक्षा कर्मियों, विभिन्न स्कूलों के छात्र-छात्राओं तथा अनेक संस्थाओं के वालिंयटर्स ने अलग अलग रंगों में अपने हाथों की छाप लगाई । इस हस्तलिपि चित्रकारी में समाज के हर वर्ग ने बढ़ चढ़ कर भाग लिया, जिसमें मुख्य रूप से विदेशी पर्यटक, सुरक्षा बलों के जवान, स्वच्

फिल्मों जैसा नहीं होता कुंभ में बिछड़ना और मिलना

प्रयागराज कुंभ: जैसा मैंने देखा(3) भारतीय फिल्मों में हमें अक्सर यह देखने को मिलता है कि कुम्भ के मेले में दो भाई बिछड़ जाते हैं और फिर कई सालों को समेटने वाली की कहानी के बाद फिल्म के अंत में उनका मिलन हो जाता है। फिल्मों में तो यह हो सकता है लेकिन वास्तविक कुम्भ में ऐसा नहीं होता क्योंकि यहाँ किसी के बिछड़ने के साथ ही उसे उसके परिवार से मिलाने की कोशिशें शुरू हो जाती है और चंद घंटों/दिनों में वह अपने परिवार तक पहुँच ही जाता है. इस काम में सबसे अहम भूमिका निभाते हैं- ‘भूले भटके शिविर’ या ‘गुमशुदा तलाश केंद्र’। प्रयागराज कुंभ के दौरान मैंने स्वयं ऐसे शिविरों की जबरदस्त भूमिका देखी जिन्होंने कुम्भ के दौरान हजारों पुरुषों,महिलाओं और बच्चों को तत्काल ही उनके परिवार तक पहुंचा दिया। गैर सरकारी संगठन भारत सेवा दल द्वारा प्रयागराज के त्रिवेणी मार्ग पर संचालित शिविर कुम्भ के सबसे पुराने भूले भटके शिविरों में से एक है और सबसे लोकप्रिय भी। भारत सेवा दल प्रयागराज में महाकुंभ, अर्धकुंभ और वार्षिक माघ मेले के दौरान हर साल यह शिविर लगाता है। शिविर प्रभारी उमेश चंद तिवारी ने बताया कि इस साल क

कुंभ में कुल्हड़ वाला रबड़ी दूध

प्रयागराज कुम्भ: जैसा मैंने देखा (1) रबड़ी की लज़ीज़ खुशबू से महकती सड़क, बड़े से कड़ाहे में गुलाबी रंगत में ढलता दूध, बड़े से चम्मच भर मलाई और प्यार से पुकारते-मनुहार करते लोग..आखिर आप कैसे अपने आपको रोक सकते हैं !..और रोकना भी नहीं चाहिए क्योंकि कुम्भ में हजारों लोगों की भीड़ के बीच इतना सब मिलना वाकई अद्भुत सा लगता है।  यदि आप गरमागरम  मलाईदार दूध के शौकीन हैं तो आप को एक बार प्रयागराज जरुर जाना चाहिए और वह भी कुम्भ के दौरान। यहाँ स्टेशन के पास तीन दुकानों पर मिलने वाले रबड़ी-दूध का स्वाद यहाँ जमा भीड़ को देखते ही और भी बढ़ जाता है। सुबह से दूध मिलने का यह सिलसिला देर रात तक और शाही स्नान के दिनों में तो सुबह चार बजने तक चलता दिखा पर न तो पिलाने वालों के चेहरे पर कोई थकावट दिखी और न पीने वालों की संख्या कम हुई..आखिर स्वाद और आग्रह का मामला था। दूध के तलबगारों की गिनती करनी हो तो हमारे लिए इतना ही जानना काफी है कि एक दूकानदार ही एक दिन में दो-तीन क्विंटल(!)..जी हाँ,तीन सौ किलो तक दूध रोज़ाना बेच रहा था और दाम भी ‘पाकेट फ्रेंडली’ मसलन 50 रुपए में आपके सामने बन रही कुल्हड़ भर ताज़ी रबड़ी खा