सोमवार, 4 मार्च 2019

कुंभ में कुल्हड़ वाला रबड़ी दूध

प्रयागराज कुम्भ: जैसा मैंने देखा (1)
रबड़ी की लज़ीज़ खुशबू से महकती सड़क, बड़े से कड़ाहे में गुलाबी रंगत में ढलता दूध, बड़े से चम्मच भर मलाई और प्यार से पुकारते-मनुहार करते लोग..आखिर आप कैसे अपने आपको रोक सकते हैं !..और रोकना भी नहीं चाहिए क्योंकि कुम्भ में हजारों लोगों की भीड़ के बीच इतना सब मिलना वाकई अद्भुत सा लगता है। यदि आप गरमागरम 
मलाईदार दूध के शौकीन हैं तो आप को एक बार प्रयागराज जरुर जाना चाहिए और वह भी कुम्भ के दौरान। यहाँ स्टेशन के पास तीन दुकानों पर मिलने वाले रबड़ी-दूध का स्वाद यहाँ जमा भीड़ को देखते ही और भी बढ़ जाता है। सुबह से दूध मिलने का यह सिलसिला देर रात तक और शाही स्नान के दिनों में तो सुबह चार बजने तक चलता दिखा पर न तो पिलाने वालों के चेहरे पर कोई थकावट दिखी और न पीने वालों की संख्या कम हुई..आखिर स्वाद और आग्रह का मामला था। दूध के तलबगारों की गिनती करनी हो तो हमारे लिए इतना ही जानना काफी है कि एक दूकानदार ही एक दिन में दो-तीन क्विंटल(!)..जी हाँ,तीन सौ किलो तक दूध रोज़ाना बेच रहा था और दाम भी ‘पाकेट फ्रेंडली’ मसलन 50 रुपए में आपके सामने बन रही कुल्हड़ भर ताज़ी रबड़ी खा लीजिए या फिर इतने ही पैसे में रबड़ी और दूध दोनों का मज़ा ले सकते हैं....और यदि रबड़ी से परहेज है तो 30 रुपए में मलाई से लबालब गिलास भर दूध पी सकते हैं और गिलास भी इतना बड़ा की, एक गिलास में ही पेट भर जाए।
बताया जाता है कि इलाहाबाद रेलवे स्टेशन के पास स्थित दूध की इन खास दुकानों की शुरुआत देश की आज़ादी के आसपास
ही हुई थी और लगभग सात दशक से वे सतत रूप से इस व्यवसाय में हैं। बस फर्क यह आया है कि समय के साथ एक से दुकानों की संख्या तीन हो गयी है पर गुणवत्ता, स्वाद और आग्रह वैसा ही है....तो अब जब भी प्रयागराज जाएँ एक बार मलाई मार के रबड़ी वाला दूध जरुर पीएं..आखिर जीभ का मामला है ।
#Kumbh2019
#kumbh #कुंभ
@http://www.kumbh.gov.in

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Ratings and Recommendations by outbrain