सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

असल सफाई तो वैज्ञानिक सोच और तकनीकी से ही होगी संभव


बिहार के दशरथ मांझी अब हिंदुस्तान के अन्य राज्यों के लिए भी अनजान नहीं हैं। पहाड़ का सीना चीर कर सड़क बनाने वाले मांझी पर बनी फिल्म ‘द माउंटेन मैन’ ने उन्हें घर घर तक पहुंचा दिया है । अब सवाल यह उठता है कि ‘स्वच्छता अभियान में वैज्ञानिक और आधुनिक तकनीकी का उपयोग’ विषय पर निबंध में दशरथ मांझी का क्या काम ! दरअसल मांझी एक ज्वलंत उदाहरण है किसी काम को हाथ में लेकर उसे पूरा करने की दृढ इच्छाशक्ति  के और उदाहरण हैं किसी काम को बिना बिना वैज्ञानिक और तकनीकी सहयोग के करने से लगने वाले समय और परिणाम के। मांझी ने 1960 से लेकर 1983 तक तक़रीबन अनवरत पहाड़ काटते हुए एक सड़क बनायीं । इस काम को पूरा करने में उन्हें लगभग 22 साल लग गए । इससे साबित होता है कि यदि हम किसी काम को पूरा करने का दृढ निश्चय कर ले तो फिर पहाड़ भी हमारा रास्ता नहीं रोक सकता । इसी का दूसरा पहलू यह है कि यदि मांझी ने यही काम तकनीकी संसाधनों और वैज्ञानिक सोच के साथ किया होता तो उन्हें तुलनात्मक रूप से समय भी कम लगता और शायद काम भी ज्यादा बेहतर होता। कुछ यही स्थिति हमारे स्वच्छता अभियान की है  क्योंकि मांझी को तो मात्र एक पहाड़ से जूझना था लेकिन हमारे सामने तो कचरे और गंदगी के अनेक पहाड़ है और सबसे ज्यादा परेशानी की बात है - आम लोगों की मानसिकता, जो गंदगी फ़ैलाने की आदतों को लेकर किसी पहाड़ से भी अडिग है और उससे पार पाना आसान नहीं है । इसे बदलने के लिए कोई एक दशरथ मांझी कुछ नहीं कर सकता बल्कि हर घर में दशरथ मांझी तैयार करने होंगे ताकि मानसिकता में परिवर्तन लाने की शुरुआत आपके-हमारे घर से ही हो ।
दशकों या कहें सैकड़ों सालों से चली आ रही आदतों को बदलना आसान नहीं है इसलिए स्वच्छता अभियान को उसकी मंजिल तक सफलता पूर्वक ले जाने के लिए हमें वैज्ञानिक और तकनीकी साधनों को अपनाना ही होगा । फिर ये साधन मानसिकता में बदलाव के लिए हों या फिर शारीरिक श्रम को कम करके हमारे काम को आसान बनाने के लिए । वैसे छोटे-छोटे स्तर पर सही परन्तु इसकी शुरुआत हो चुकी है । यदि आज हम नीली और हरी कचरा पेटी में अलग अलग कूड़ा डालने लगे हैं तो यह हमारी वैज्ञानिक सोच का ही परिणाम है । हमने यह समझना शुरू कर दिया है कि यदि हम अपने स्तर पर ही कूड़े के निस्तारण के दौरान उसे जैविक और अजैविक कूड़े में विभक्त कर देंगे तो आगे चलकर उसके खाद बनाने से लेकर चक्रीकरण की प्रक्रिया में सहभागी बन जाएंगे और यह हमारे और हमारे बच्चों के भविष्य के लिए एक अच्छा कदम होगा ।
कचरा प्रबंधन पर काम करने वाले एक संगठन की वेबसाइट के मुताबिक दिल्ली में प्रतिदिन लगभग 9 हजार टन कूड़ा निकलता है जो सालाना तक़रीबन 3.3 मिलियन टन हो जाता है। मुंबई में हर साल 2.7 मिलियन टन,चेन्नई में 1.6 मिलियन टन, हैदराबाद में 1.4 मिलियन टन और कोलकाता में 1.1 मिलियन टन कूड़ा निकल रहा है । जिसतरह से जनसँख्या/भोग-विलास की सुविधाएँ और हमारा आलसीपन बढ़ रहा है उससे तो लगता है कि ये आंकडें अब तक और भी बढ़ चुके होंगे । यह तो सिर्फ चुनिन्दा शहरों की स्थिति है,यदि इसमें देश के तमाम छोटे-बड़े शहरों को जोड़ दिया जाए तो ऐसा लगेगा मानो हम कूड़े के बीच ही जीवन व्यापन कर रहे हैं । हमारे देश में सामान्यतया प्रति व्यक्ति 350 ग्राम कूड़ा उत्पन्न करता है परन्तु यह मात्रा औसतन 500 ग्राम से 300 ग्राम के बीच हो सकती है । विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा देश के कुछ राज्यों के शहरों में कराए गए अध्ययन के अनुसार शहरी ठोस कूड़े का प्रति व्यक्ति दैनिक उत्पादन 330 ग्राम से 420 ग्राम के बीच है ।
            सीएसआईआर के हैदराबाद स्थित सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मोलिक्यूलर  बायोलॉजी (सीसीएमबी) के निदेशक अमिताभ चट्टोपाध्याय का कहना है कि “मुझे लगता है कि अगर हम स्वच्छ भारत का सपना पूरा करना चाहते हैं, तो हमें विज्ञान को साथ लेने की आवश्यकता है । पूरे देश में सफाई किसी व्यक्ति या व्यक्तियों के समूह के वश में नहीं  है, बल्कि इस उद्देश्य के लिए उपयुक्त तकनीकों को विकसित किया जाना चाहिए”। स्वच्छता अभियान में वैज्ञानिक और आधुनिक तकनीकी के उपयोग का एक ताज़ा उदाहरण सीसीएमबी के वैज्ञानिकों द्वारा समुद्र में रिसने वाले तेल को चट कर जाने वाले बैक्टीरिया की खोज है जो इसतरह के तेल रिसाव के दौरान समुद्र के पानी को तेल से फैलने वाले प्रदूषण से बचा सकता है . यहाँ के वैज्ञानिक अब सियाचिन के शून्य से कम तापमान में ठोस अवशिष्ट को खाकर ख़त्म करने वाले बैक्टीरिया पर काम कर रहे हैं । यदि उनका प्रयोग सफल रहता है तो सियाचिन ही नहीं देश के कई हिस्सों में ठोस कूड़े से निजात मिल जाएगी। सीसीएमबी के निदेशक अमिताभ चट्टोपाध्याय का यह भी कहना है कि हमारे देश में वैज्ञानिकों में इतनी क्षमता है कि वे सड़कों पर व्याप्त धूल (डस्ट) को खाने वाले बैक्टीरिया भी बना सकते हैं जो महानगरों की हवा को स्वच्छ बनाने में क्रांतिकारी साबित हो सकता है।
भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर ने भी स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत देशी प्यूरीफायर तैयार किए हैं जो कम लागत में घर,शहर और नदियों के प्रदूषित पानी को पीने लायक बनाने में सहायक साबित हो रहे हैं । इनमें मेम्ब्रेन तकनीक,थर्मल प्लाज्मा तकनीक, बहुस्तरीय बायोलाजिकल उपचार तकनीक, रेडियेशन हाइजिनाइजेशन तकनीक,यूएफ मेम्ब्रेन जैसी कई विधियाँ शामिल हैं जो नाले के गंदे पानी तक को उपयोगी बनाने में कामयाब साबित हो रही हैं । यहाँ के वैज्ञानिकों का दावा है कि यदि बेकार और अनुपयोगी माने जाने वाले ठोस कूड़े का वैज्ञानिक ढंग से निस्तारण किया जाए तो यह बहुपयोगी ऊर्जा स्त्रोत में तब्दील हो सकता है ।
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भी मैसूर विश्वविद्यालय में 103वीं इंडियन साइंस कांग्रेस में उद्घाटन भाषण देते हुए कहा था कि “हमारे अधिकांश शहरों में बुनियादी ढांचे का निर्माण होना अभी बाकी है । हमें वैज्ञानिक सुधारों के साथ स्थानीय सामग्री का इस्तेमाल अधिकतम करना चाहिए और इमारतों को ऊर्जा के लिहाज से ज्यादा कुशल बनाना चाहिए ।  हमें ठोस कचरा प्रबंधन के लिए किफायती और व्यवहारिक समाधान तलाशने हैं; कचरे से निर्माण सामग्री और ऊर्जा बनाने और दूषित जल के पुनर्चक्रीकरण पर भी ध्यान देना है”। उनका कहना था कि “ कृषि और पारिस्थितिकी पर ज्यादा ध्यान दिया जाना चाहिए और हमारे बच्चों को सांस लेने के लिए स्वच्छ हवा मिलनी चाहिए। साथ ही हमें ऐसे समाधानों की जरूरत है जो व्यापक हों और विज्ञान व नवाचार से जुड़े हुए हों”।
कहने का आशय है कि स्वच्छता जैसे देशव्यापी और हमारी सोच के स्तर में आमूल-चूल बदलाव लाने वाले अभियान को बिना किसी वैज्ञानिक और तकनीकी सहयोग के पूरा नहीं किया जा सकता। वैज्ञानिक सोच और तकनीकी संसाधनों के जरिए हम न केवल विभिन्न स्तरों पर सफाई बनाए रख सकते हैं बल्कि इनका इस्तेमाल:
व्यक्तिगत या पारिवारिक स्तर पर जागरूकता बढ़ाने के लिए, बच्चों में अच्छी आदतें पैदा करने में ।
सामुदायिक स्तर पर स्वच्छता शिक्षा, अनुशासन, सफाई की धारणा पैदा करने में ।
सार्वजनिक स्थानों पर कचरा नहीं फेंकने,उन्हें अपना समझने, गंदगी फैलाने की आदतों और सफाई रखने वाले प्रशासकों के साथ एक संयुक्त प्रयास के जरिए समान समझ का वातावरण तैयार करने में ।
स्थानीय प्रशासन स्तर पर कचरा संग्रहण, नालियों के रख-रखाव, निपटान आदि के लिए कुशल तंत्र बनाने जैसे तमाम प्रयासों में भी कर सकते हैं ।
मेरी राय में, अच्छे नागरिक बनाने के साथ साथ स्वच्छता का पूरा लक्ष्य तकनीक के माध्यम से बहुत ही कुशलतापूर्वक हासिल किया जा सकता है । इसमें मीडिया के माध्यम से शिक्षा / जागरूकता की प्रक्रिया शामिल हो सकती है जैसे टीवी धारावाहिकों के माध्यम से लोगों को साफ़-सफाई अपनाने और स्वच्छता के लिए अनुकूल माहौल बनाने के लिए पुरस्कार / प्रोत्साहन शुरू कर सकते हैं । इसके साथ साथ तकनीकी सहयोग मसलन सीसीटीवी कैमरे के सहयोग से 90% लोगों के प्रयासों को खराब करने वाले 10% लोगों की पहचान कर उन्हें  दंड देना जैसे कई कदम उठा सकते हैं ताकि समाज में अन्य लोगों को उचित सीख मिले। इसके अलावा,  सौर ऊर्जा पर हमारी निर्भरता बढ़ाकर, आपूर्ति श्रृंखला और अवसंरचना के पुनर्चक्रीकरण (रीसाइक्लिंग) में अधिक निवेश से, गंदे क्षेत्रों की रिपोर्ट करने के लिए मोबाइल एप्लिकेशन इस्तेमाल करके और जिम्मेदार नागरिक निकायों को इस पर कार्रवाई करने और उससे संबंधित व्यक्ति को अवगत कराने जैसे उपायों में तकनीकी हमारी अत्यधिक मददगार बन सकती है । केंद्रीय सरकार का 'स्वच्छ' ऐप इसका एक अच्छा उदाहरण है ।
इसके अलावा,निर्माण सामग्री में इस प्रकार की सामग्री को बढ़ावा दिया जाए जो प्रदूषण को सोखने और रासायनिक उत्सर्जन को कम करने में मददगार हो।ठोस अपशिष्ट प्रबंधन तकनीकों को न केवल अपनाया जाए बल्कि उन्हें समयानुरूप उन्नत भी बनाया जाए । स्वच्छता अभियान में वैज्ञानिक और आधुनिक तकनीकी के उपयोग का एक अन्य लोकप्रिय  उदाहरण तमिलनाडु के वेल्लोर शहर में शुरू किया गया ‘गारबेज टू गोल्ड’ माडल है । इस माडल के मुताबिक फालतू समझ कर फेंका जाने वाला कूड़ा हमें 10 रुपए प्रति किलो की कीमत तक दे सकता है । ‘गारबेज टू गोल्ड’ माडल में सबसे ज्यादा प्राथमिकता कूड़े के जल्द से जल्द सटीक निपटान को दी जाती है। इसके अंतर्गत कूड़े को उसके स्त्रोत (सोर्स) पर ही अर्थात् घर, वार्ड,गाँव,नगर पालिका, शिक्षण संस्थान,अस्पताल या मंदिर के स्तर पर ही अलग-अलग कर जैविक और अजैविक कूड़े में विभक्त कर लिया जाता है। फिर इस जैविक कूड़े को  जैविक या प्राकृतिक खाद/उर्वरक के तौर पर परिवर्तित कर इस्तेमाल किया जाता है। इससे न केवल हमें भरपूर मात्रा में प्राकृतिक खाद मिल जाती है बल्कि अपने कूड़े को बेचकर अच्छी-खासी कमाई भी कर सकते हैं और इस सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण बात यह है कि हमें/हमारे शहर को कूड़े के बढ़ते ढेरों से छुटकारा मिल भी जाएगा ।
महानगरों में निकलने वाले कूड़े पर किए गए एक अध्ययन के मुताबिक दिल्ली में प्रतिदिन उत्पन्न होने वाले 9 हज़ार टन कूड़े में से लगभग 50 फीसदी कूड़ा जैविक होता है  और इसका उपयोग खाद बनाने में किया जा सकता है । इसके अलावा 30 फीसदी कूड़ा पुनर्चक्रीकरण (रिसाइकिलिंग) के योग्य होता है । इसका तात्पर्य यह है कि महज 20 फीसदी कूड़ा ही ऐसा है जो किसी काम का नहीं है । देश के अधिकतर शहरों में कमोबेश यही स्थिति है,बस जरुरत है कि शहर के मुताबिक तकनीकी पर अमल कर कूड़े को इस ढंग से लाभदायक बनाने की।
हमने जैसे बाल विवाह, छुआछूत, कन्या भ्रूण हत्या जैसी तमाम सामाजिक बुराइयों तथा परिवार नियोजन अभियान जैसे अभियान को जिसतरह वैज्ञानिक सोच के साथ तकनीकी परिवर्तन का चोला पहनाकर कई सामाजिक-धार्मिक बाधाओं को पार किया और फिर उसे समाज में तेजी से स्वीकार्य बनाया है,उसीतरह स्वच्छता को भी जीवन का एक जरिया बनाने में वैज्ञानिक सोच और आधुनिक प्रौद्योगिकी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कुछ तो अलग था हमारे वेद में .....!

क्या नियति के क्रूर पंजों में इतनी ताकत है कि वो हमसे हमारा वेद छीन सके? या फिर काल इतना हठी हो सकता है कि उसे पूरी दुनिया में बस हमारा वेद ही पसंद आए? सब कह रहे हैं कि वेद हमारे बीच नहीं रहा,हमारा प्यारा वेद अब ईश्वर के दरबार में अपना रंग जमाएगा. हम में से कोई भी यह सोच भी नहीं सकता था कि ईश्वर के कथित ‘पैरोकारों’ से हमेशा दो-दो हाथ करने वाले वेद की जरुरत खुद ईश्वर को पड़ सकती है.शायद ईश्वर सीधे वेद से ही यह जानना चाहता होगा कि समस्याओं,चिंताओं और परेशानियों से भरी मेरी दुनिया में तुम इतने बेफ़िक्र-बेलौस और खिलंदड कैसे रह सकते हो?     वेद यानि वेदव्रत गिरि, एटा के पास छोटे से गाँव की एक ऐसी शख्सियत जिसके लिए कुछ भी नामुमकिन नहीं था.वह पत्रकार भी था और यारों का यार भी,लेखक भी था और दोस्तों का आलोचक भी,कवि भी था और मित्रों का गुणगान करने वाला भी,पटकथा लेखक भी था और अपने ही भविष्य से खेलने वाला अभिनेता भी...क्या नहीं था हमारा वेद और क्या नहीं कर सकता था हमारा वेद. कल ही की बात लगती है जब हम सब यानि कुल जमा ४० युवा भोपाल में माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय में मिले थे औ

हमारी बेटिओं को ‘सेनेटरी नेपकिन’ नहीं, स्कूल-अस्पताल चाहिए

एक मशहूर चुटकुला है:एक बार एक व्यक्ति कपड़े की दुकान पर पहुंचा और बढ़िया सी टाई दिखाने को कहा.दुकानदार ने कई टाईयां दिखाई.ग्राहक को एक टाई पसंद आ गई.कीमत पूछने पर दुकानदार ने कहा-५४० रूपए,तो वह व्यक्ति बोला क्या बात करते हो इतने में तो बढ़िया जूते आ जाते हैं?तो दुकानदार बोला-पर आप जूते तो गले में नहीं लटका सकते न! इस चुटकुले का सार यही है कि जिस चीज़ की ज़रूरत हो उसको खरीदना चाहिए न हर-कुछ. अब हमारी सरकार को ही देख लीजिए उसे आज़ादी के ६० साल बाद भी नहीं पता कि आम जनता को किस चीज़ की दरकार है इसलिए वह ऊल-ज़लूल योजनाए बनाकर करदाताओं के गाढ़े पसीने की कमी को फ़िजूल में उड़ाती रहती है.सरकार की नासमझी का नया उदाहारण देश के गाँवों की बेटियों को सेनेटरी नेपकिन बाँटना है. सरकार ने किशोर लड़कियों में मासिक धर्म संबंधी स्वास्थ्य को बढावा देने के लिए 150 करोड़ रुपए की योजना को मंजूरी दी है ताकि ग्रामीण क्षेत्रों में किशोर लड़कियों के लिए उच्च स्तर के सेनेटरी नेपकिनों की उपलब्धता आसान की जा सके. योजना के अनुसार छ: सेनेटरी नेपकिनों का एक पैकेट गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) की लड़कियों को एक रुपया प्रति पैकेट मिलेगा

क्यों न अब अखबारों और चैनलों पर लिखा जाए “केवल वयस्कों के लिए”

               क्यों न अब न्यूज़ चैनलों और अख़बारों की ख़बरों के साथ “ केवल वयस्कों के लिए ” जैसा कोई टैग लगाना चाहिए? हो सकता है यह सवाल सुनकर आपको आश्चर्य हो और आप प्रारंभिक तौर पर इससे सहमत भी न हो लेकिन यदि आप मेरी पूरी बात पर गंभीरता से विचार करेंगे तो शायद आपको भी इस सवाल में दम नज़र आ सकता है. देश में कई बातों को बच्चो के लिए उपयुक्त नहीं माना जाता इसलिए ‘केवल वयस्कों के लिए’ नामक श्रेणी को बनाया गया. इसका उद्देश्य बच्चों या अवयस्कों को ऐसी सामग्री से दूर रखना है जो उम्र के लिहाज़ से उनके लिए उपयुक्त नहीं मानी जा सकती क्योंकि वयस्कों के लिए निर्धारित सामग्री देखने से उनके अपरिपक्व मन पर गहरा असर पड़ सकता है. यही कारण है कि हिंसात्मक दृश्यों से भरपूर फिल्मों, अश्लीलता परोसने वाले कार्यक्रमों, फूहड़ भाषा का इस्तेमाल करने वाली पत्रिकाओं और इन विषयों पर केंद्रित चित्रों का प्रकाशन-प्रसारण करने वाली सामग्री को बच्चों से दूर रखने के लिए उन पर साफ़ तौर पर इस बात का उल्लेख किया जाता है कि ‘यह सामग्री केवल वयस्कों के लिए है’. कानून व्यवस्था से जुडी एजेंसियां भी इस बात का खास ख्याल रखती