सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आखिर कुत्तों की भी तो कोई इज्ज़त है?

कुत्ता समाज इन दिनों बहुत नाराज़ है खासतौर पर भाजपा के मुखिया नितिन गडकरी के खिलाफ तो वे मानहानि का मुकदमा दायर करने के मूड में हैं.कुत्ता समाज का कहना है की इन नेताओं ने हमें समझ क्या रखा है.कुत्ता समाज की युवा शाखा ने तो चेतावनी दे डाली है की यदि उनके विरुद्ध यह दुष्प्रचार बंद नहीं किया गया तो वे सीधे कारवाई करने के लिए मजबूर हो जायेंगे.युवा कुत्ते तो अब मरने-मारने(पढ़े काटने)के मूड में हैं पर समाज के बुजुर्गो ने उन्हें समझा बुझाकर रोक रखा है.समाज की आपत्ति उनकी इंसानों से तुलना को लेकर है.कुत्ता समाज का मानना है की इंसानों तक तो फिर भी ठीक था लेकिन नेताओं से तुलना करके तो अब हद हे पर कर दे गए है.नितिन गडकरी के बयान ने कुत्तों की नाराज़गी में आग में घी डालने का कम किया है.यह बताने की ज़रूरत नहीं है की गडकरी ने लालू प्रसाद यादव और मुलायम सिंह को सोनिया गांघी के तलवे चाटने वाले नेता करार दिया है.कुत्तो की राय है की टुच्ची राजनीती में हमारा नाम नहीं घसीटा जाय ,यदि नेताओं को उपमा ही देने है तो किसी और जानवर का इस्तेमाल करें और वैसे भी उन्ही(नेताओं) के बीच में इतने उपमाए/तुलनाए मौजूद हैं की किसी दुसरे से तुलना करने की ज़रूरत ही नहीं पड़ेगी.कुत्ता प्रमुख ने इस बात को स्वीकार किया की हम तलवे चाटते हैं परन्तु यह हमारा पेशा और समाज को मिला प्रकर्ती प्रदत्त गुण है .हम जिसके भी तलवे एक बार चाट लेते हैं जीवन भर उसके साथ वफादारी निभाते हैं नेताओं की तरह बार बार पाला नहीं बदलते.नेता तो मौका पड़ते ही जिस के तलवे चाट रहे हैं उसी की पीठ में छुरा घोंप देते हैं लेकिन हमारे साथी हर हाल में वफ़ादारी निभाते हैं.कुत्ता समाज का कहना है की पहले फिल्मों में नायक खलनायक को कुत्ता कहकर अपमानित करता था .उन्हें फिल्म शोले का वो संवाद भी याद है "कुत्ते में तेरा खून पी जाऊंगा ".अब बताइए पहले तो कुत्ता करकर गाली देते हैं और फिर हमारा ही खून पीने की बात करते हैं...ये कहाँ का न्याय है.कुत्ता समाज नेताओं के अलावा अभिनेता धर्मेन्द्र और उनके बेटे सनी देओल से भी बहुत नाराज़ है क्योंकि इन दोनों ने भी उन्हें सबसे ज्यादा बदनाम किया है.कुत्ता समाज को अपनी इमानदारी,वफादारी और तलवे चाटने की कला पर गर्व है इसलिए वे इनपर कापीरायट लेने की तैयारी कर रहे हैं ताकि कई नेता इसका फायदा उठाकर अपनी नेतागिरी न चमका सके और इन शब्दों का इस्तेमाल किसी को अपमानित करने के लिए न कर सके.आखिर कुत्तों की भी तो कोई इज्ज़त है?

टिप्पणियाँ

  1. यह कुत्ता समाज का घोर अपमान है. वैसे भी कुत्ता जगत एक फ़िल्मी ही-मैन से पहले से परेशान है जो उनका खून पीने की धमकी देता रहता है. कुत्तों की तुलना या राजनीति में उनका नाम घसीटना कतई जायज़ नहीं कहा जा सकता. राजनेताओं को इसके लिए माफ़ी माँगना चाहिए..... भौं..भौं...भौं.

    जवाब देंहटाएं
  2. दरअसल दिशाहीन और तर्कहीन वफादारी कुत्तागिरी का पर्याय है, आपने बेहतरीन व्यंग्य लिखा है, इस कुत्तागिरी पर मैंने भी कुछ लिखा है
    नीचे लिंक
    http://pungibaaj.blogspot.com/2010/05/blog-post_14.html

    पुनः बेहतरीन व्यंग्य के लिए बधाई......

    जवाब देंहटाएं
  3. Sanjeev ji apka dhanyawad karta hoon jo apne mujhe blogspot.com jaisi rachnatmak site ka pata bataya maine bhi apna blog is site par shuru kar diya hai sachindevjhs.blogspot.com naam se
    Thanks once again

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कुछ तो अलग था हमारे वेद में .....!

क्या नियति के क्रूर पंजों में इतनी ताकत है कि वो हमसे हमारा वेद छीन सके? या फिर काल इतना हठी हो सकता है कि उसे पूरी दुनिया में बस हमारा वेद ही पसंद आए? सब कह रहे हैं कि वेद हमारे बीच नहीं रहा,हमारा प्यारा वेद अब ईश्वर के दरबार में अपना रंग जमाएगा. हम में से कोई भी यह सोच भी नहीं सकता था कि ईश्वर के कथित ‘पैरोकारों’ से हमेशा दो-दो हाथ करने वाले वेद की जरुरत खुद ईश्वर को पड़ सकती है.शायद ईश्वर सीधे वेद से ही यह जानना चाहता होगा कि समस्याओं,चिंताओं और परेशानियों से भरी मेरी दुनिया में तुम इतने बेफ़िक्र-बेलौस और खिलंदड कैसे रह सकते हो?     वेद यानि वेदव्रत गिरि, एटा के पास छोटे से गाँव की एक ऐसी शख्सियत जिसके लिए कुछ भी नामुमकिन नहीं था.वह पत्रकार भी था और यारों का यार भी,लेखक भी था और दोस्तों का आलोचक भी,कवि भी था और मित्रों का गुणगान करने वाला भी,पटकथा लेखक भी था और अपने ही भविष्य से खेलने वाला अभिनेता भी...क्या नहीं था हमारा वेद और क्या नहीं कर सकता था हमारा वेद. कल ही की बात लगती है जब हम सब यानि कुल जमा ४० युवा भोपाल में माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय में मिले थे औ

हमारी बेटिओं को ‘सेनेटरी नेपकिन’ नहीं, स्कूल-अस्पताल चाहिए

एक मशहूर चुटकुला है:एक बार एक व्यक्ति कपड़े की दुकान पर पहुंचा और बढ़िया सी टाई दिखाने को कहा.दुकानदार ने कई टाईयां दिखाई.ग्राहक को एक टाई पसंद आ गई.कीमत पूछने पर दुकानदार ने कहा-५४० रूपए,तो वह व्यक्ति बोला क्या बात करते हो इतने में तो बढ़िया जूते आ जाते हैं?तो दुकानदार बोला-पर आप जूते तो गले में नहीं लटका सकते न! इस चुटकुले का सार यही है कि जिस चीज़ की ज़रूरत हो उसको खरीदना चाहिए न हर-कुछ. अब हमारी सरकार को ही देख लीजिए उसे आज़ादी के ६० साल बाद भी नहीं पता कि आम जनता को किस चीज़ की दरकार है इसलिए वह ऊल-ज़लूल योजनाए बनाकर करदाताओं के गाढ़े पसीने की कमी को फ़िजूल में उड़ाती रहती है.सरकार की नासमझी का नया उदाहारण देश के गाँवों की बेटियों को सेनेटरी नेपकिन बाँटना है. सरकार ने किशोर लड़कियों में मासिक धर्म संबंधी स्वास्थ्य को बढावा देने के लिए 150 करोड़ रुपए की योजना को मंजूरी दी है ताकि ग्रामीण क्षेत्रों में किशोर लड़कियों के लिए उच्च स्तर के सेनेटरी नेपकिनों की उपलब्धता आसान की जा सके. योजना के अनुसार छ: सेनेटरी नेपकिनों का एक पैकेट गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) की लड़कियों को एक रुपया प्रति पैकेट मिलेगा

क्यों न अब अखबारों और चैनलों पर लिखा जाए “केवल वयस्कों के लिए”

               क्यों न अब न्यूज़ चैनलों और अख़बारों की ख़बरों के साथ “ केवल वयस्कों के लिए ” जैसा कोई टैग लगाना चाहिए? हो सकता है यह सवाल सुनकर आपको आश्चर्य हो और आप प्रारंभिक तौर पर इससे सहमत भी न हो लेकिन यदि आप मेरी पूरी बात पर गंभीरता से विचार करेंगे तो शायद आपको भी इस सवाल में दम नज़र आ सकता है. देश में कई बातों को बच्चो के लिए उपयुक्त नहीं माना जाता इसलिए ‘केवल वयस्कों के लिए’ नामक श्रेणी को बनाया गया. इसका उद्देश्य बच्चों या अवयस्कों को ऐसी सामग्री से दूर रखना है जो उम्र के लिहाज़ से उनके लिए उपयुक्त नहीं मानी जा सकती क्योंकि वयस्कों के लिए निर्धारित सामग्री देखने से उनके अपरिपक्व मन पर गहरा असर पड़ सकता है. यही कारण है कि हिंसात्मक दृश्यों से भरपूर फिल्मों, अश्लीलता परोसने वाले कार्यक्रमों, फूहड़ भाषा का इस्तेमाल करने वाली पत्रिकाओं और इन विषयों पर केंद्रित चित्रों का प्रकाशन-प्रसारण करने वाली सामग्री को बच्चों से दूर रखने के लिए उन पर साफ़ तौर पर इस बात का उल्लेख किया जाता है कि ‘यह सामग्री केवल वयस्कों के लिए है’. कानून व्यवस्था से जुडी एजेंसियां भी इस बात का खास ख्याल रखती