सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गायें खा रही हैं "गौमांस" और इंसान.....


फिल्म गोपी का एक गीत "रामचंद्र कह गए सिया से ऐसा कलयुग आएगा,हंस चुनेगा दाना और कौवा मोती खायेगा..." आज भी लोकप्रिय है और मौजूदा परिस्थितियों पर बिलकुल सटीक लगता है क्योंकि जब गाय ही घास की जगह मांस और कई जगह तो गोमांस(beef) खाने लगे तो इस गाने में की गई भविष्यवाणी सही लगने लगती है. चौंक गए न आप भी यह सुनकर? मेरा हाल भी यही हुआ था. दरअसल जुगाली करना हमेशा ही फायदेमंद होता है. अब यह बताने की ज़रूरत नहीं है कि जुगाली का मतलब बौद्धिक वार्तालाप होता है. आज हम कुछ मित्र ऐसे ही भोजनावकास में जुगाली कर रहे थे तो हाल ही में खाड़ी देशों की यात्रा से लौटे एक मित्र ने चर्चा के दौरान बताया कि अधिकतर खाड़ी देशों में गायें मांस युक्त चारा(fodder) खा रही हैं. उनका कहना था कि वहां हरी घास तो है नहीं और न ही हमारी तरह भरपूर मात्र में भूसा उपलब्ध है इसलिए गायों को मांस आधारित चारे से गुजारा करना पड़ता है. कई देशों में तो गायों को गाय के मांस वाला चारा ही खिलाया जाता है. यह जानकारी मेरे लिए तो चौकाने वाली थी शायद आप में से भी कई ही लोग यह बात जानते होंगे? इसी बातचीत के दौरान दिल्ली में काफी समय से रह रहे एक मित्र ने बताया कि दिल्ली के सफदरजंग इन्क्लेव में कमल सिनेमा के पास एक मांस की दुकान है जहाँ अक्सर गाय घूमती रहती हैं और वे खुलेआम पड़े मांस के टुकड़ों को खाती रहती हैं.मित्र ने मजाक में कहा कि यदि आप एक 'लेग- पीस' वहां फेंको तो कई गाय भागती हुई आ जाएँगी. बातचीत के दौरान मुझे भी अपने बचपन में आँखों देखा एक किस्सा याद आ गया. हम लोग मध्यप्रदेश के करेली कस्बेमें रहते थे.वहां एक कंजड मोहल्ला काफी बदनाम था, दरअसल यहाँ महुए को सड़ाकर देशी शराब बनायीं जाती थी और बाद में सड़े-गले महुए को यूँ ही सड़क पर फेंक दिया जाता था.इसके चलते उस इलाके कि ज़्यादातर गायें सडा महुआ खाने की आदी हो गयी थी. इसका दुष्परिणाम यह हुआ कि जिस दिन उन्हें पर्याप्त मात्रा में महुआ नहीं मिलता वे दूध नहीं देती या सामान्य दिनों की तुलना में काफी कम मात्रा में दूध देती थी.एक तरह से उस इलाके की गायें महुआ के नशे की आदी हो गयी थी. सोचिये क्या समय आ गया है जब गायों को देशी शराब और मांस खाना पड़ रहा है? क्या हम इस लायक भी नहीं रहे कि धार्मिक रूप से माता मानी जाने वाली गाय को भरपेट चारा तक उपलब्ध नहीं करा सकते? कहाँ हैं हमारे तथाकथित 'धर्मरक्षक',जो किसी गैर हिन्दू के फिजूल के बयाँ पर इतनी हाय-तौबा मचाते हैं कि देश में दंगे की स्थिति बन जाती है या वे हिन्दू वीर ,जो ज़रा-ज़रा सी बात पर कत्ले-आम पर उतारू हो जाते हैं? यहाँ इस जानकारी का उल्लेख करने का उद्देश्य किसी की भावनाओं या रीति-रिवाजों का मजाक उड़ना नहीं है बल्कि इंसानों के तानाशाही पूर्ण रवैये और मनमानी हरकतों से प्रकृति के साथ हो रहे खिलवाड़ को उजागर करना भर है. यदि अभी भी हमने पर्यावरण के साथ छेड़छाड़ बंद नहीं की तो आज हमारे पालतू पशुओं का यह हाल है कल हमारा हाल इससे भी बदतर हो जायेगा?

टिप्पणियाँ

  1. प्राकृतिक संसाधनों को छेड़े जाने के परिणामस्वरूप उपजी हुई बहुत चिंताजन स्थिति है यह...!!

    जवाब देंहटाएं
  2. ab prakriti ko chhedoge to yahi haal hoga...ham bhi yahi karne wale hain...

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह जी वाह खुब लिखा है। एक तरफ तो हमारे लिए शर्म की बात ही है।

    जवाब देंहटाएं
  4. वाकई दुःख की बात है. गंगा का पानी कैंसरकारक हो गया, गायों को मांसभक्षण करना पद रहा है और धर्म के रक्षक वेलेन्ताइन्स डे मनाने वालों को मुर्गा बना रहे हैं.

    जवाब देंहटाएं
  5. क्या करे इनके हिस्से पर तो आवारा कमीने इंसान ने कब्जा कर लिया , और अब उलटे इन्हें आवारा कहता है !

    जवाब देंहटाएं
  6. संस्कृ्ति रक्षकों को भला क्या पडी है...उन्हे अपने गदर्भ राग अलापने से फुर्सत मिले तो वो लोग इस सब चीजों के बारे में सोच पाएं....बहरहाल प्रकृ्ति से खिलवाड के दुष्परिणाम तो भोगने ही पडेंगें..आज पशु भोग रहे हैं,कल को इन्सान भोगेगा..

    जवाब देंहटाएं
  7. वास्तव में यह मेरे लिए चौकाने वाली जानकारी है. यह बहुत ही पीड़ादायक है.
    हमने प्रकृति का जीवचक्र बिगाड़ दिया है जिसके दुष्परिणाम सामने आने लगे हैं.

    Dharmendra Pant

    जवाब देंहटाएं
  8. बेहतरीन पोस्ट शर्मा जी आपके पोस्ट जनसत्ता और दैनिक जागरण में प्रकाशित हो रहे हैं, मालूम था एक दिन ये तो होगा ही
    बधाई आपकी सक्रियता के लिए ....शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  9. मुझे याद है कि जब मैं छोटा था और कुछ वर्ष गाँव में ही रहते हुए यह देखता था कि गाय जब बूढ़ी हो जाती थी और दूध देना बंद कर देती थी तो हिन्दू,जो गाय को माता की संज्ञा देते हैं, ही उसे कसाई को बेच अपना पिंड छुड़ा कर आ जाते थे और ऐसा गाँवों में आजकल भी निरंतर हो रहा है...
    आपने एक सार्थक पोस्ट लिखी इसके लिए शुभकामनाएं...

    जवाब देंहटाएं
  10. आपने एक घिन्न पैदा करने वाली जानकारी को उजागर किया है। वस्तुत: इन कसाई और माँसभक्षियों नें न केवल मानव के प्रकृतिक आहार को बिगाडा है बल्कि निर्दोष पशुओं के आहार को भी भ्रष्ट कर दिया है। यह प्रकृति के साथ भ्रष्टाचार है।
    जीवदया पर करूणा दृष्टि रखने वाले भी कहाँ तक पहूँचे? फिर भी उनकी क्षमता अनुकूल गौशालाओं आदि का निर्माण हो रहा है। किन्तु मांसभक्षियों की गिद्ध भूख और पशु संरक्षण के संसाधनों में बहुत बड़ा अन्तर है, खाने वाले एक दिन में हजारों को सफाचट करने सामर्थ्य रखते है क्योंकि मांस पैदा करना मोटे लाभ उद्योग बना है जबकि पशुरक्षावादियों को प्रत्येक पशु को उसकी उम्र तक पालन पोषण करना पड़ता है। यह बहुत बड़ा गैप है जो निरंतर माँस प्रचारको द्वारा बढ़ाया जा रहा है।

    जवाब देंहटाएं
  11. और संरक्षण पालन पोषण का उत्तरदायित्व मात्र तथाकथित 'धर्मरक्षकों'का ही नहीं है, पर्यावरण से प्रेम करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को आगे आना होगा, पशु-रक्षको, जीवदयावादियों, करूण संवेदनाधारियों को भी आगे आना पडेगा। मात्र व्यंग्य से यह घृणित समस्या सुलझने वाली नहीं। सभी करूणा और दया या रहम में मानने वालो को बनते योगदान करना ही चाहिए। किनारे बैठ देखना विद्रुपता कही जाएगी।

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कुछ तो अलग था हमारे वेद में .....!

क्या नियति के क्रूर पंजों में इतनी ताकत है कि वो हमसे हमारा वेद छीन सके? या फिर काल इतना हठी हो सकता है कि उसे पूरी दुनिया में बस हमारा वेद ही पसंद आए? सब कह रहे हैं कि वेद हमारे बीच नहीं रहा,हमारा प्यारा वेद अब ईश्वर के दरबार में अपना रंग जमाएगा. हम में से कोई भी यह सोच भी नहीं सकता था कि ईश्वर के कथित ‘पैरोकारों’ से हमेशा दो-दो हाथ करने वाले वेद की जरुरत खुद ईश्वर को पड़ सकती है.शायद ईश्वर सीधे वेद से ही यह जानना चाहता होगा कि समस्याओं,चिंताओं और परेशानियों से भरी मेरी दुनिया में तुम इतने बेफ़िक्र-बेलौस और खिलंदड कैसे रह सकते हो?     वेद यानि वेदव्रत गिरि, एटा के पास छोटे से गाँव की एक ऐसी शख्सियत जिसके लिए कुछ भी नामुमकिन नहीं था.वह पत्रकार भी था और यारों का यार भी,लेखक भी था और दोस्तों का आलोचक भी,कवि भी था और मित्रों का गुणगान करने वाला भी,पटकथा लेखक भी था और अपने ही भविष्य से खेलने वाला अभिनेता भी...क्या नहीं था हमारा वेद और क्या नहीं कर सकता था हमारा वेद. कल ही की बात लगती है जब हम सब यानि कुल जमा ४० युवा भोपाल में माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय में मिले थे औ

हमारी बेटिओं को ‘सेनेटरी नेपकिन’ नहीं, स्कूल-अस्पताल चाहिए

एक मशहूर चुटकुला है:एक बार एक व्यक्ति कपड़े की दुकान पर पहुंचा और बढ़िया सी टाई दिखाने को कहा.दुकानदार ने कई टाईयां दिखाई.ग्राहक को एक टाई पसंद आ गई.कीमत पूछने पर दुकानदार ने कहा-५४० रूपए,तो वह व्यक्ति बोला क्या बात करते हो इतने में तो बढ़िया जूते आ जाते हैं?तो दुकानदार बोला-पर आप जूते तो गले में नहीं लटका सकते न! इस चुटकुले का सार यही है कि जिस चीज़ की ज़रूरत हो उसको खरीदना चाहिए न हर-कुछ. अब हमारी सरकार को ही देख लीजिए उसे आज़ादी के ६० साल बाद भी नहीं पता कि आम जनता को किस चीज़ की दरकार है इसलिए वह ऊल-ज़लूल योजनाए बनाकर करदाताओं के गाढ़े पसीने की कमी को फ़िजूल में उड़ाती रहती है.सरकार की नासमझी का नया उदाहारण देश के गाँवों की बेटियों को सेनेटरी नेपकिन बाँटना है. सरकार ने किशोर लड़कियों में मासिक धर्म संबंधी स्वास्थ्य को बढावा देने के लिए 150 करोड़ रुपए की योजना को मंजूरी दी है ताकि ग्रामीण क्षेत्रों में किशोर लड़कियों के लिए उच्च स्तर के सेनेटरी नेपकिनों की उपलब्धता आसान की जा सके. योजना के अनुसार छ: सेनेटरी नेपकिनों का एक पैकेट गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) की लड़कियों को एक रुपया प्रति पैकेट मिलेगा

किसको फुर्सत मुड़कर देखे बौर आम पर कब आता है..

 मौसम में धीरे-धीरे गर्माहट बढ़ने लगी है और इसके साथ ही बढ़ने लगी है आम की मंजरियों की मादक खुशबू...हमारे आकाशवाणी परिसर में वर्षों से रेडियो प्रसारण के साक्षी आम के पेड़ों में इस बार भरपूर बौर/मंजरी/अमराई/मोंजर/Blossoms of Mango दिख रही है और पूरा परिसर इनकी मादक गंध से अलमस्त है....ऐसा लग रहा है  जैसे धरती और आकाश ने इन पेड़ों से हरी पत्तियां लेकर बदले में सुनहरे मोतियों से श्रृंगार किया है और फिर बरसात की बूंदों से ऐसी अनूठी खुशबू रच दी है जो हम इंसानों के वश में नहीं है। चाँदनी रात में अमराई की सुनहरी चमक और ग़मक वाक़ई अद्भुत दिखाई पड़ रही है।  अगर प्रकृति और इन्सान की मेहरबानी रही तो ये पेड़ बौर की ही तरह ही आम के हरे-पीले फलों से भी लदे नज़र आएंगे.....परन्तु आमतौर पर सार्वजनिक स्थानों पर लगे फलदार वृक्ष अपने फल नहीं बचा पाते क्योंकि फल बनने से पकने की प्रक्रिया के बीच ही वे फलविहीन कर दिए जाते हैं....खैर,प्रकृति ने भी तो आम को इतनी अलग अलग सुगंधों से सराबोर कर रखा है कि मन तो ललचाएगा ही..महसूस कीजिए कैसे स्वर्णिम मंजरी की मादकता चुलबुली ‘कैरी’ बनते ही भीनी भीनी खुशबू से मन को लुभाने लगती