हमारी एकसाथ यात्रा बहुत छोटी है !


एक महिला बस में चढ़ी और एक आदमी के बगल में खाली पड़ी सीट पर बैठ गई...जगह कम होने और सामान ज्यादा होने के कारण और शायद जानबूझकर भी, वह महिला अपने सहयात्री को सामान से चोट पहुंचाती रही ।
जब काफी देर तक भी पुरुष चुप रहा, तो अंततः महिला ने उससे पूछा - क्या मेरे सामान से आपको चोट नहीं पहुंच रही और आपने अब तक कोई शिकायत क्यों नहीं की?
उस आदमी ने हल्की सी मुस्कान के साथ उत्तर दिया: "इतनी छोटी सी बात से परेशान होने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि हमारी *एक साथ यात्रा बहुत छोटी है,* ...मैं अगले पड़ाव पर उतर रहा हूँ।"
इस जवाब ने औरत को मानसिक ग्लानि से भर दिया और उसने उस आदमी से माफ़ी माँगते हुए कहा कि आपके इन शब्दों को स्वर्णिम अक्षरों में लिखने की ज़रूरत है !!
यह बात हम सभी पर लागू होती है। हम में से प्रत्येक को यह समझना चाहिए कि इस दुनिया में हमारा समय इतना कम है कि इसे बेकार तर्कों, ईर्ष्या, जलन, प्रतिस्पर्धा, नाराज़गी,दूसरों को क्षमा न करने, असंतोष और परस्पर बुरे व्यवहार के साथ अपने समय और ऊर्जा को बेकार में बर्बाद करना कितना उचित है?
क्या किसी ने आपका दिल तोड़ा? शांत रहो क्योंकि हमारी परस्पर *यात्रा बहुत छोटी है..*
क्या किसी ने आपको धोखा दिया या अपमानित किया? आराम से रहें - तनावग्रस्त न हों क्योंकि उसका और आपका साथ साथ *सफर बहुत छोटा है...*
क्या किसी ने बिना वजह आपका अपमान किया? शांत रहो, उसे अनदेखा करो क्योंकि उसके साथ आपका *सफर बहुत छोटा है...*
क्या किसी ने ऐसी टिप्पणी की जो आपको पसंद नहीं आई? शांत रहो, उपेक्षा करो और क्षमा करो । आख़िर हम दोनों का साथ साथ *सफर बहुत छोटा है...।*
जो भी समस्याएँ हमारे सामने आती हैं, उसे महज एक समस्या माने, अगर हम उसके बारे में ही दिनरात सोचते रहेंगे तो जीवन का आनंद कब लेंगे...हमेशा याद रखें कि *हमारी किसी के साथ भी यात्रा बहुत छोटी है...*
ये सच है कि हमारी यात्रा की लंबाई कोई नहीं जानता….कल किसी ने नहीं देखा….कोई नहीं जानता कि वह अपने पड़ाव पर कब पहुंचेगा। परंतु यह भी उतना ही सत्य है कि:
*साथ साथ हमारी यात्रा बहुत छोटी है...।*
इसलिए,आइए हम दोस्तों और परिवार की सराहना करें….उन्हें हमेशा खुश रखें...उनका सम्मान करें..उन्हें मान दें।
तभी तो हम स्वयं और शायद हमारे आसपास के लोग भी परस्पर खुशी,आनंद, प्रसन्नता और कृतज्ञता से भरे रहेंगे...।
*आखिर हमारी एक साथ यात्रा है ही कितनी.!!* (अनाम लेखक की अंग्रेजी कथा से प्रेरित)

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कुछ तो अलग था हमारे वेद में .....!

कुछ मीठा हो जाए

हमारी बेटिओं को ‘सेनेटरी नेपकिन’ नहीं, स्कूल-अस्पताल चाहिए